शनिवार, 28 जनवरी 2017

प्रतिपलं तव संस्मरणम् (हुलासगंज संस्मरण)

प्रातः 4:00 बजे उठकर मंदिर जाकर वेंकटेश सुप्रभातम्  का सामूहिक पाठक करना। पाठ याद करने के लिए बैठ जाया करते थे। सुबह छात्रों को जगाने का काम छात्रावास के छात्रावास अधीक्षक श्री शिवकुमार शर्मा जी कराते थे। शिवकुमार शर्मा जी का कठोर अनुशासन था। प्रातः 4:00 बजे से लेकर रात्रि 9:00 बजे तक जब तक कि छात्र सोना जाएहर एक पर उनकी पैनी दृष्टि होती थी। प्रातः कालीन नित्यक्रिया कर घर से लाये जलपान को करना और दैनिक  आवृत्ति के लिए बैठ जाना। उच्च विद्यालय परिसर में समय-समय पर घंटी बजाई जाती थी। प्रत्येक घंटी का समय के साथ अलग अलग तात्पर्य होता था। यदि 4:00 बजे की घंटी है तो यह जागरण के लिए होती थी। 9:00 बजे की घंटी भोजन करने के लिए ,10:00 बजे की घंटी स्कूल जाने के लिए, स्कूल के प्रत्येक कालांश के लिए घंटी बजती रहती थी। अध्यापक बदलते रहते थे और अंतिम घंटी 4:00 बजे की बजती थी। तब हम सायंकालीन विद्यालयीय प्रार्थना कर अपने छात्रावास परिसर को चले जाते थे। 4:30 पुनः घंटी बजती थी अमनिया करने के लिए। चावल की साफ सफाई को अमनिया कहा जाता था। यह प्रक्रिया प्रतिदिन की थी। हमलोग इसका अभ्यस्त हो चुके थे।घंटी समय और दिनचर्या का साहचर्य हो चुका था। हम इसके अभिन्न अंग बन चुके थे। एक दिन की घटना है हम लोग हम चारों भाई महाविद्यालय के छात्रावास में सोए हुए थे, तभी आश्रम में स्थित उच्च विद्यालय के छात्रावास की ओर से जोर जोर से आवाज आ रही थी आग लग गई है। महाविद्यालय के छात्रों के साथ हमलोग उस दिशा की ओर दौड पडे। वहां पहुंच कर देखा, स्थिति अत्यंत ही भयावह थी।  उच्च विद्यालय के छात्रावास में कुल 3 कक्ष थे। इसके साथ ही भोजनालय भी लगा हुआ था। मिट्टी की दीवारें और घास फूस से निर्मित छप्पर वाले इस छात्रावास में आग इतनी तेजी से फैली कि किसी को संभलने का मौका ही नहीं दिया। उच्च विद्यालय के छात्रावास से आग की ऊँची लपटें निकल रही थी। कक्षा 6 से 8 तक के छात्र बदहवास इधर उधर भाग रहे थे। कोई अपनी जली किताबें, वर्तन आदि को देखकर रो रहा था तो कोई भयावह मंजर को देखकर भयभीत था। सभी छात्रों के कपड़े रजाई सब कुछ जल चुके थे। उच्च विद्यालय के अध्यापक श्री शिवकुमार शर्मा जी की तत्परता से कोई हताहत नहीं हुआ। सभी सुरक्षित बाहर निकल चुके थे। आग किसने लगायी या कैसे लगी इसपर कयास ही लगते रहे। कुछ दिनों तक उच्च विद्यालय का बरामदा छोटे बचेचों का छात्रावास बना रहा। महाविद्यालय के छात्र भी फूस से निर्मित छात्रावास को छोडकर महाविद्यालय के कक्ष में रहने आ गये। जल्द ही हम उस घटना को भूल गये। हम पूर्ववत् अपनी दिनचर्या में लग गये।
आज का हुलासगंज को देखने के लिए लिंक पर चटका लगायें।


इतनी यादें मत आया कर (हुलासगंज संस्मरण 1)


लिखना मेरा स्वभाव रहा है। बचपन से ही हर बात पर लेखनी चलाने का शौक। श्री स्वामी पराङ्कुशाचार्य के नाम से निर्मित संस्कृत उच्च विद्यालय तथा महाविद्यालय में मैं पढ़ चुका हूँ। यह जहानाबाद जिले के हुलासगंज में अवस्थित है। आज भी सोते जागते उठते बैठते हमेशा हुलासगंज की याद आती है। वे बीते दिन याद आते हैं,जब मैं कक्षा प्रथमा और मध्यमा में वहां पर रहा था। यह बुद्ध, महावीर, आर्यभट्ट, वाणभट्ट तथा वाग्भट्ट जैसे विद्वानों की कर्मस्थली रही है। यहाँ से 40 कि. मी. दूर गया हिन्दुओं का पवित्र प्राचीन तीर्थस्थल है। दूसरी ओर संसार को अपने ज्ञान से आलोकित करने वाला नालन्दा तथा पौराणिक आख्यानों को समेटे मगध की प्राचीन राजधानी राजगृह। अवलोकितेश्वर बुद्ध की प्रतिमा यहाँ के प्रत्येक गाँव में विखरे पडे हैं। इस प्रकार यह क्षेत्र आस्था, ज्ञान विज्ञान, कला,दर्शन तथा राजनीति का केन्द्र रहा है। 
       मगध क्षेत्र में वैष्णव संतों द्वारा संस्कृत के द्वारा सामाजिक क्रान्ति और अपने बचपन के बीते उन दिनों सोचते-सोचते सारे विचार एक साथ मिश्रित हो जाते हैं। कुछ सुखद घटनायें तो कुछ दुखद घटनायें मुझे आन्दोलित करतीं हैं। वहाँ के सन्तों का अनन्य स्नेह, उनके व्यक्तित्व का अनुकरण हममें रोमांच भर देता है।        हुलासगंज से मेरा बौद्धिक कम भावात्मक लगाव अधिक रहा है। आखिर वहीं मेरा बचपन बीता। जीवन की खट्टी मीठी यादें, मेरे बाल सखा, मेरे गुरु, मेरे उपास्य इष्टदेव, वहाँ का तत्कालीन प्राकृतिक वैभव सब मिलकर मुझे लिखने ही नहीं देता और लिखे विना रहने भी नहीं देता। मैं वेचैन हूँ, सब कुछ व्यतिक्रम। आपको भी इसी क्रम में पढना पडेगा।

पृष्ठभूमि

मैं हुलासगंज का संस्मरण लिखूँ  इसके पूर्व रामानुज सम्प्रदाय का दक्षिण बिहार तक आगमन का संक्षिप्त इतिहास बताना जरुरी समझता हूँ। दक्षिण बिहार में राजेंद्र सुरी के शिष्य श्री स्वामी परांकुशाचार्य सर्वप्रथम भुमिहार वैष्णव संत हुए। इनकी कर्मभूमि मगध के वर्तमान चारों जनपद तथा पटना प्रमंडल के कुछ जनपद थी। राजेंद्र सुरी के गुरु रंगदेशिक स्वामी वृंदावन के महान श्रीवैष्णव संत थे। उत्तर भारत में रामानुज वैष्णव सम्प्रदाय के विस्तार का श्रेय इन्हीं राजेंद्र सुरी को जाता है। श्री परमहंस स्वामी राजेन्द्र सूरि जी महाराज की जीवनी नामक एक पुस्तक श्री परांकुश संस्कृत संस्कृति संरक्षा परिषद्, हुलासगंज, गया, बिहार से प्रकाशित है। कृष्णप्रपन्नाचारी द्वारा लिखित दिव्यचरितामृतम् पुस्तक में गुरु परम्परा का विस्तृत इतिहास उपलब्ध है।
उत्तर भारत में रामानुज सम्प्रदाय की स्थापना
वरवरमुनि स्वामी (उन्हें मामला मुनि, राम्या जमत्री भी कहा जाता था) ने समस्त भारत को आठ भागों में बांटकर आठ पीठों की स्थापना की। सभी पीठों की अध्यक्षता उनके ही शिष्यों ने की। यह कंडदै अन्नान ही थे, जिन्होंने उत्तर भारत के वृंदावन में, गोवर्धन पीठ के कार्यभार को लिया। यही कारण है कि इस पीठ को अन्नान पीठ भी कहा जाता है। उत्तर भारत में रामानुज सम्प्रदाय का प्रसार वैष्णव संतों की विविध शाखा के माध्यम से हुआ तथापि मुख्य द्वार वृंदावन के गोवर्धन पीठ को माना जाता है। दक्षिण भारत से उत्तर भारत (वृन्दावन) तक रामानुज सम्प्रदाय की गुरु शिष्य परम्परा तथा वृन्दावन से दक्षिण बिहार तक की परम्परा को जानने का मुख्य स्रोत तनया है। 
रामानुज परम्परा में तनया का विशेष महत्व है,यूँ तो इसका गायन गुरु के सश्रद्ध नमन के लिए किया जाता है,परन्तु इससे आचार्य शिष्य परम्परा को समझने में भी अत्यन्त सहायता मिलती है। वन्दे गुरु परम्पराम्। ऐतिह्य साक्ष्य के लिए यहाँ गुरु परम्परा उद्धृत है।
वाधूलवंश कलशाम्बुधिपूर्णचन्द्रं श्री श्रीनिवासगुरूवर्यपदाव्जभृङ्गम्।
श्रीवाससूरी तनयं विनयोज्जवलन्तं श्रीरंगदेशिकमहं शरणं प्रपद्ये।।
भारद्वाजान्वावय धृततनुममलम् वैष्णवेषु अग्रगण्यम् ।
श्रीमत्रंगार्यवर्यांमलपदकमले न्यस्तविश्वात्मभारम् ।।
तद्पादाम्भोज भृङ्गम् तद्मृत कृपया प्राप्तसंमंत्र- राजम्।
श्रीमत् राजेन्द्रसूरि वरगुणनिलयं धामराशिमश्रयेऽहम्।।
कौडिण्यगोत्र सरसीरूह बालभानुम्।
 श्रीरंगदेशिक पदाब्जरसैक भृङ्गम्।।
श्रीराजेन्द्रसूरि चरणाश्रितमप्रमेयम्।
 श्रीमत् पराङ्कुशगुरूं शरणं प्रपद्ये ।
राजेन्द्राचार्य / परमहंस सूरि का वृन्दावन में आगमन
श्री राजेन्द्रयतीन्द्रपादयुगले सद्भक्तिमानवहम्
राजेन्द्र सूरी परमहंस का जन्म 22 मार्च 1853 मंगलवार को नैमिषारण्य से 67 KM उत्तर पूर्व मिश्र की मिठौली नामक ग्राम जिला खीरी, उत्तर प्रदेश में हुआ। इनके पिता का नाम अयोध्या मिश्र था। माँ के द्वारा संतों की सेवा में यथोचित सत्कार की कमी से खिन्न होकर ये वृन्दावन चले गये। दक्षिण से ब्रज में आए आये रंगदेशिक स्वामी के पढ़ने-लिखने की व्यवस्था श्रीनिवासाचार्य ने की । उस समय गद्दी पर श्रीनिवासाचार्य विद्यमान थे। श्रीरंगदेशिक स्वामी का जैन परिवार से सम्बन्ध तथा श्री राधाकृष्ण जैन की पुत्री से विधिवत् इनके विवाह की कथा प्रचलित है। दूसरे कथानक के अनुसार श्रीवैष्णव शास्त्रों की भक्ति और विद्वानों से प्रभावित होकर, दो धनी भाइयों, राधा-कृष्ण (लक्ष्मीदास) और मथुरा के गोविंद दास, श्री रंगादेशिक स्वामी के अनुयायी बन गए।  रंगदेशिक स्वामी अपने स्वसुर श्रीराधाकृष्ण के साथ श्रीरंगनाथ भगवान् के दर्शन करने गए। गोदाम्मा की तीसरी इच्छा थी कि वे  वृन्दावन में वास करें। श्रीरंगनाथ भगवान् से मंदिर स्थापना की अनुमति प्राप्त कर उनकी मूर्ति की व्यवस्था की गयी । मद्रास से 40 कि.मी. दूर पेरुम्बदूर में भगवान् श्रीरंगनाथ की प्राण-प्रतिष्ठा का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। इसी के बाद स्वसुर राधाकृष्ण के साथ विधि विधान से अर्चना पूजन करते हुए श्रीरंगदेशिक स्वामी  श्रीरंगनाथ जी को लेकर वृन्दावन आ पहुँचे। सर्वप्रथम वृन्दावन पहुँचकर अक्रूर घाट के पास भतरोंड़ बगीची में पश्चात् प्रतिष्ठा होने तक लक्ष्मीनारायण मंदिर में रहे। दोनों भाईयों (श्रीलक्ष्मीचंद तथा गोविंद) के सहयोग से रंगदेशिक स्वामी तमिलनाडु में श्रीविल्लिपुत्तुर के अंदल मंदिर की शैली का अनुसरण करते हुए  7 वर्ष में मंदिर बनवाया। गोदारंगमन्नार भगवान साक्षात् लक्ष्मी-नारायण के अवतार हैं। । मंदिर का काम 1845 में शुरू हुआ और इस मंदिर की स्थापना  25/10/1851 को श्रीरंगदेशिक स्वामी के हाथों से हुई थी। 7 परकोटों में जड़ा हुआ मंदिर तथा सुवर्ण-इन्द्रासन आदि दर्शकों को चमत्कृत कर देते हैं। साठ फुट ऊँचा सोने का खम्भा देखते ही बनता है। कहा जाता है कि उस समय मंदिर निर्माण में 45 लाख रूपये खर्च हुए थे। मंदिर में श्री गोदा रंगमन्नार भगवान विग्रह विराजित है । महत्वपूर्ण मान्यताए देवताओं अंदल, रंगनाथ स्वामी, और गरुड़ (भगवान के पार्षद) की हैं। मंदिर अब श्री रंग मंदिर, वृंदावन के रूप में जाना जाता है।
रंगदेशिक स्वामी के शिष्य का नाम परमहंस सुरी है। परमहंस सूरी सैकडों शिष्यों के साथ विचरण करते हुए तरेत पधारे। यहाँ रहते हुए आश्रम की स्थापना की। इनके अनेकों प्रभावशाली शिष्यों में दो प्रमुख संत हुए 1-परांकुशाचार्य 2- वासुदेवाचार्य। वासुदेवाचार्य कान्यकुब्ज ब्राह्मण थे,जबकि परांकुशाचार्य भूमिहार ब्राह्मण।

श्रीस्वामी परांकुशाचार्य जी 
श्रीस्वामी परांकुशाचार्य जी का जन्म 10 मार्च 1865 तदनुसार फाल्गुन शुक्ल त्रयोदशी शुक्रवार संवत् 1921 को नौवतपुर के समीप अवस्थित महमत्पुर गॉंव के कौण्डिन्य गोत्रीय आथर्वणिक ब्राह्मण कुल में श्री रामधीन शर्मा एवं श्रीमती रामसखी देवी के द्वितीय पुत्र के रूप में हुआ।  बचपन में आप पारसनाम से पुकारे जाते थे। समयानुसार बभनलई ग्राम के भारद्वाजगोत्रीय श्री नरसिंह नारायण शर्मा की पुत्री के साथ परिणय सूत्र में बंधकर आपका गृहास्थाश्रम में प्रवेश हुआ तथा एक पुत्ररत्न भी प्राप्त हुआ। इस तरह से गृहास्थाश्रम के मुख्य उद्देश्य पितृ ऋण से आप मुक्त हुए। बचपन से ही संगीत के माध्यम से रामचरित मानस की सस्वर प्रस्तुति में आपकी अभिरूचि थी। एक दिन स्वामी परमहंस सूरि जी के स्वागत में गॉंव मे मानस प्रस्तुति का आयोजन हुआ। प्रस्थान के पूर्व स्वामी परमहंससूरि जी ने आपके बड़े भाई श्रीजुदागी शर्मा से आपको अपने लिया मांगा। घर गृहस्थी के कारण प्रारंभ में भाई को संकोच तो हुआ परंतु उन्होंने अपनी स्वीकृति देते हुए कहा कि पारस भी आपका ही है।
दक्षिण भारत की यात्रा
कुछ समय बीता और स्वामी परमहंससूरि जी तरेत स्थान से दक्षिण भारत की यात्रा पर निकल गये। इधर पारस जी का मन स्वामी जी में ही लगा रहता था। एक दिन पारस जी अस्वस्थ हुए और दिन- प्रतिदिन रोग बढ़ता ही गया। स्थिति ऐसी आ गयी कि सबलोग इनके जीवन से निराश होने लगे। इसी बीच अचानक स्वामी परमहंससूरि जी का तरेत में पदापर्ण हुआ। पारस उन्हें देखते ही स्वस्थ हो गये। इनकी अनेक रोचक कहानियां प्रसिद्ध हैं। 

श्रीस्वामी परांकुशाचार्य  और उनकी शिष्य परम्परा
हजारो गॉंव के लोग श्रीस्वामी जी से दीक्षा प्राप्त कर श्रीवैष्णव बने। श्रीस्वामी जी के संरक्षण में हजारों श्रीवैष्णव संस्कृत शिक्षा प्राप्त कर गृहस्थ जीवन अपनाते हुए अध्यापन आदि कार्य में लग गये। कुछेक शिष्यों ने विरक्त जीवन को चुना एवं  श्रीवैष्णव मत के प्रचार प्रसार में जीवन दानी हो गये। संवत् 2036 फाल्गुन कृष्ण नवमी को परांकुशाचार्य इहलोक की लीला पूर्ण कर परलोक सिधारे।  अधिक जानकारी के लिए श्रीस्वामी परांकुशाचार्य  पर चटका लगायें।  श्रीस्वामी जी के शिष्यों में रङ्गरामानुजाचार्य का महत्तम स्थान है, मेरे आप दीक्षा गुरु हैं। मेरी जीवन गाथा इन्हीं से जुडती है,अतः श्रीस्वामी रङ्गरामानुजाचार्य की जीवन गाथा यहॉं प्रस्तुत करना अपरिहार्य है।

  श्री स्वामी रङ्गरामानुजाचार्य का आविर्भाव एवं शिक्षा   
                                                                    

                    तनया                            
श्रीराजेन्द्रयतीन्द्रपादयुगले  सद्भक्तिमानन्वहम्
कौण्डिन्यकुले पराङ्कुशमुनिर्जातोमहाब्धौविधुः।
तत्पादाश्रित लब्धबोध निखिलं श्रीरङ्गरामानुजम्
श्रीमत्काश्यपवंशजं गुरूवरं भक्त्या सदासंश्रये।।
कश्यप कुल में प्रादुर्भूत श्री स्वामी रङ्गरामानुज की भक्ति का आश्रय लेता हूँ जो परमहंस स्वामी राजेन्द्र सूरि जी की भक्ति में प्रवीण पूर्णचंद्रमा की तरह अवतरित श्रीकौण्डिन्य गोत्रिय स्वामी श्रीपराङ्कुशाचार्य जी के चरणाश्रित होकर समस्त वेदशास्त्र के ज्ञान में निष्णात हुए हैं।
         श्री स्वामी रङ्गरामानुज जी का आविर्भाव वि. संवत् 1989 आश्विन शुक्ल एकादशी तदनुसार 10 अक्टूवर 1932 को धनिष्ठा नक्षत्र में वर्तमान जिला जहानाबाद के मिर्जापुर गॉंव में हुआ है। दीक्षा लेने के पूर्व इनके बचपन का नाम  श्री रूपदेव था। इनके पिता श्रीरामसेवक शर्मा जी के दो पुत्र हैं : श्री विशुनदेव शर्मा एवं श्री रूपदेव जी। गॉंव में तीसरी कक्षा तक की पढ़ाई के बाद पारिवारिक परिस्थितिवश ये खेती एवं गोपालन में पिताजी की सहायता करने में लग गये। दिन में विश्राम की अवधि में गॉंव में ही स्थापित स्वामी श्री पराङ्कुशाचार्य पुस्तकालयसे पुस्तकें लेकर पढ़ते रहते थे। पढ़ाई लिखाई के प्रति अभिरूचि देखकर पिताजी ने इन्हें शकुराबाद के उच्च विद्यालय में भेज दिया। वहॉं के प्रधानाध्यापक श्री उदित नारायण शर्मा एवं संस्कृत शिक्षक श्री गिरिराज शर्मा की इनपर विशेष कृपा रहती थी। एक बार छुट्टी के दिनों में जब ये शकुराबाद से गॉंव मिर्जापुर आये हुए थे तब गॉंव में स्वामी श्रीपराङ्कुशाचार्य की कथा चल रही थी। नित्य कथा सुनने में इनकी अभिरूचि देखकर गॉंव वालों ने स्वामी श्रीपराङ्कुशाचार्य जी से इन्हें शिक्षा प्राप्ति हेतु सरौती ले जाने के लिये प्रार्थना की । करीब 15 वर्ष की अवस्था में ये सरौती आश्रम में आ गये एवं यहाँ के 82 वर्षीय स्वामी श्रीपराङ्कुशाचार्य जी से दीक्षित होकर रङ्गरामानुज नाम प्राप्त किये। सरौती संस्कृत विद्यालय के छात्र के रूप में प्रथमा. मध्यमा. उपशास्त्री. शास्त्री के उपरान्त व्याकरण एवं न्याय में आचार्य की शिक्षा पूरी की। अलौकिक मेधा के कारण ये व्याकरण एवं न्याय में स्वर्णपदक से सम्मानित हुए। श्री मधुकांत जी से न्याय पढने हेतु दरभंगा जाना पड़ता था। कुछ काल वहॉं रहकर पुनः सरौती आ जाते थे। शिक्षा प्राप्त करने हेतु अन्य विद्वान से कालक्षेप करने के निमित्त श्रीवैष्णवों की सेवा के लिये प्रसिद्ध श्रीकिशोरी जी के पीरमुहानी पटना स्थित आश्रम में भी कुछ काल के लिये ये ठहरा करते थे। तरेत स्थान के यशस्वी एवं न्याय के ख्यातिलब्ध ज्ञाता श्री प्रसिद्धनारायण शर्मा से भी इन्होंने तरेत में ही रहकर न्याय के गूढ़ तत्वों को समझा था। इसतरह से न्याय में आचार्य की पढ़ाई पूरी हुई थी।
 सरौती स्वामी जी की चरण सेवा में रहते हुए श्रीमुख से वेदान्त की महत्ता के बारे सुनकर इन्होंने भी श्रीस्वामी जी से वेदान्त अध्ययन की जिज्ञासा प्रकट की।  इनकी अभिरूचि से प्रसन्न होकर स्वामी जी ने इनको उच्च शिक्षा हेतु बाराणसी भेज दिया। वारणसी में आपने श्री नीलमेघाचार्य से वेदान्त की तथा अन्य गुरुओं से ज्योतिष एवं मीमांसा की शिक्षा प्राप्त की। श्री नीलमेघाचार्य वेदान्त के ख्यातिलब्ध आचार्य थे। उनकी जीवनी यहाँ प्रस्तुत है।
श्रीवैष्णव दर्शन के शिक्षक  श्री नीलमेघाचार्य  (1901-1965)

     पंडित को0नीलमेघाचार्य का जन्म फरवरी सन् 1901 में कोडिपाक्कम् ग्राम दक्षिणी अर्काट जिला मद्रास में हुआ था। इनके पिता का नाम वरददेशिकाचार्य था। इनकी प्रारंभिक शिक्षा तंजौर जिला के तिरुवैयार संस्कृत महाविद्यालय में हुई थी। सन् 1922 में इन्होंने मद्रास विश्वविद्यालय से व्याकरण शिरोमणि परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की। बाद  के वर्षों में इन्होंने कोयियालम् स्वामी जी के आश्रम में श्री भाष्य और गीता भाष्य का अध्ययन किया। वहां से अध्ययन पूर्ण कर रीवा राजगुरु के विद्यालय में वर्षपुष्कर (अजमेर) की संस्कृत पाठशाला में वर्ष तथा रामानुजकूर शोलापुर में वर्ष तक वेदांत और व्याकरण का अध्यापन किये। पुनः तिरुपति के श्री वेंकटेश्वर ओरिएंटल कॉलेज में 10 वर्ष तक व्याकरण के अध्यापक रहे। वहां से वाराणसी में आकर रामानुज विद्यालय में 10 वर्ष तथा वृंदावन के वैष्णव संस्थान में वर्ष तक अध्यापन कर अंत में 1959 में वाराणसेय संस्कृत विश्वविद्यालय संप्रति संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में रामानुज वेदांत के प्राध्यापक नियुक्त होकर अंत समय तक यही कार्य करते रहे। ग्रीष्मावकाश में जब आप अपनी जन्मभूमि में विश्राम कर रहे थे 26 जून 1965 इसवी में आपका अकस्मात स्वर्गवास हो गया। तमिल के साथ ही साथ आपका संस्कृत और हिंदी भाषा पर पूरा अधिकार था। न्यायसिद्धांतञ्जनवेदार्थसंग्रहन्यासविंशतिन्यासतिलकयतिराजविंशति और परमपदसोपान का हिंदी अनुवाद आपने किया। इसके अतिरिक्त आपने अष्टश्लोकी,श्रीगुरुपरंपरा प्रभाव और वेदांतकारिकावली का संपादन किया है। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में आपके विद्वता पूर्ण लेख प्रकाशित होते रहे हैं। आपने विष्णुसहस्त्रनामरहस्यत्रयसार और गीतार्थसंग्रह का भी हिंदी व्याख्या के साथ संपादन किया है। अपने जीवन के अंतिम काल में न्याय सिद्धांत जन पुस्तक के-परीक्षणों की टिप्पणी यह लिख चुके थे परंतु में परीक्षेत की टिप्पणी लिखते समय अकस्मात् परम पद को प्राप्त हो गए। वेदांत देशिक जो न्यायसिद्धांजन के रचयिता है, उन्होंने भी इस पुस्तक को पूर्ण नहीं कर सके। विडंबना है कि स्वयं वेदांतदेशिक अभाव का निरूपण नहीं कर सके और चल बसे। इसी प्रकार विशिष्टाद्वैत वेदांत के प्रगल्भ पंडित यामुनमुनि के ग्रंथ सिद्धित्रय के आत्मसिद्धिईश्वरसिद्धि और सम्वित्सिद्धि इन तीनों के प्रकरण अपूर्ण है। भट्ट पराशर के ग्रंथ तत्वरत्नाकर का प्रमेय प्रकरण भी अधूरा रह गया। नीलमेघाचार्य का पूरा जीवन भारतीय दर्शन विशेषकर रामानुज संप्रदाय के अध्ययन अध्यापन में व्यतीत हुआ। एक बार करपात्री जी के तरफ से श्रीवैष्णवों के विरोध में कुछ बात छपी थी तो श्रीनीलमेघाचार्य ने त्रिदंडी श्रीविष्वकसेनाचार्य की तरफ से एक पुस्तक का प्रणयन कर करपात्री जी को करारा उत्तर दिया था। काशी के विद्वत्तमंडली में इनका बहुत ही आदर सम्मान था। भाषा एवं विषय में बिना किसी अशुद्धि के किसी भी सभा मे धाराप्रवाह संस्कृत बोलकर विद्वानों प्रतिद्वन्दियों को अचंभित एवं श्रोताओं को मुग्ध किये रहते थे।

       रङ्गरामानुजाचार्य जी तिंगल मत के श्रीवैष्णव थे अतः तिंगल मतावलम्बी होने के कारण प्रारंभ में शंका थी कि बडगल समर्थक श्री नीलमेघाचार्य इन्हें श्रीवैष्णव विशिष्टाद्वैत दर्शन के अध्ययन हेतु शायद स्वीकार न करें। संयोगवश एक बार तरेत स्थानाधीश स्वामी श्रीवासुदेवाचार्य जी काशी में पधारे। तरेत स्वामी  जी भी रङ्गरामानुजाचार्य पर अत्यंत स्नेह रखते थे, अतः उन्होंने इनसे इनकी पढ़ाई लिखाई की जानकारी ली। जब रङ्गरामानुजाचार्य जी ने श्री नीलमेघाचार्य से श्रीवैष्णवदर्शन पढ़ने की जिज्ञासा प्रकट करते हुए अपनी शंका से भी उनको अवगत कराया तब श्रीस्वामी जी तुरत ही इनको साथ लेकर श्रीनीलमेघाचार्य जी के पास पहुँच गये। प्रारंभ में श्रीनीलमेघाचार्य जी ने बताया कि तिंगल एवं बडगल में सिद्वान्ततः मतभेद के कारण अच्छा होगा कि ये किसी तिंगल मत के विद्वान से ही श्रीवैष्णव दर्शन पढ़ें।  तरेत स्वामी जी ने अनुरोध किया कि आप नीलमेघ हैं और मेघ बिना भेदभाव के पृथ्वी पर जल वर्षाता है। आप  कृपा करके अपनी ज्ञान की वर्षा इनपर कीजिये। श्रीनीलमेघाचार्य जी ने रङ्गरामानुजाचार्य को अपना विद्यार्थी स्वीकारते हुए कुछ आवश्यक नियमों के पालन से इन्हें अवगत कराया : 
1. नित्य द्वादश तिलक लगाकर आना होगा। 
2. प्रतिदिन प्रातः बिना अन्न ग्रहण किये फलाहार रहकर ही पढ़ने के लिये आना होगा। पढ़ाई के बाद ही           अन्न ग्रहण करना होगा। 
3. बडगल परंपरा के  पाठ से ही नित्य पढ़ाई प्रारंभ भी होगी तथा समाप्त भी होगी।  परंपरा पाठ के समय      बारम्बार जमीन पर आठों अंग से लेटकर साष्टांग करना तथा पुनः खड़ा होकर साष्टांग करते रहना होगा। 
4. परंपरा पाठ के बाद ही नित्य पढ़ाई शुरू होगी।

विद्यार्थियों के साथ स्वयं श्री नीलमेघाचार्य जी भी इन नियमों का पालन करते थे। प्रारंभ के चार छः दिन श्रीरूपदेव जी को शारीरिक कष्ट का अनुभव हुआ परन्तु शीघ्र ही ये इसके अभ्यासी हो गये तथा 1957 से 1962 तक इन्होंने श्रीनीलमेघाचार्य जी से रहस्यत्रय सार’ ‘अधिकरण सारावली’  ‘न्याय सिद्धाञ्जन तथा श्रीभाष्य का अध्ययन किया।
         एक गृहस्थ वैष्णव परिवार के दो पुत्र एवं एक पुत्री के अभिभावक थे तथा परिवार के भरण पोषण के लिये धन की निरन्तर आवश्यकता पड़ती थी। इसी कारण से सरौती स्वामी जी रङ्गरामानुजाचार्य को श्रीनीलमेघाचार्य जी को भुगतान करने हेतु प्रतिमाह कुछ धनराशि उपलब्ध करा दिया करते थे। इसके अतिरिक्त श्रीरूपदेव जी के स्वयं के खर्च के लिये आवश्यक राशि अलग से भेजते रहते थे।
श्री स्वामी रङ्गरामानुजाचार्य पर रोग का आक्रमण
        एक बार कर्मकाण्ड कराने पंडित श्रीमाधव जी के सहायक के रूप में रङ्गरामानुजाचार्य सोन नदी के पश्चिम वरूही गॉंव गये थे। वहीं ये ज्वर से पीड़ित हो गये तथा पालकी की सवारी से इन्हें सरौती लाया गया। सरौती आने पर ज्वर के साथ विषम चेचक के चपेट में आ गये। महीनों उपचार के बाद स्वस्थ हुए।
बचपन से त्यागी एवं सहिष्णु प्रवृति के होने के कारण काशी अध्ययन की अवधि में भोजन एवं अन्य सुविधायों से श्रीस्वामी रङ्गरामानुजाचार्य जी उदासीन रहे। साथ रहने वाले छात्रों को भोजन कराने के बाद स्वयं भोजन करते थे। फलस्वरूप प्रायः भोजन में कमी हो जाती थी। कभी दाल पीकर सो जाना तथा कभी भूखे रह जाना इनका स्वभाव हो गया था। जाड़े में एक ही कम्बल को आधा विछाकर आधा ओढ़कर अपना काम चला लिया करते थे। शरीर कमजोर होने से स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर हुआ तथा इन्हें टी बी रोग ने धर दबोचा। ये काशी छोड़कर तरेत आ गये। सरौती स्वामी जी को जब यह ज्ञात हुआ तो विशेष व्यवस्था से इन्हें सरौती बुला लिये। सरौती ठाकुरवारी के तत्कालीन  व्यवस्थापक सरौती गॉंव के प्रपन्न श्रीवैष्णव श्री रघुराज जी को पटना भेजकर पटना के प्रसिद्ध डा टी एन बनर्जी से तीन वर्षों तक इनकी टी बी का उपचार कराया। शुरू के नौ महीने पटना में ही रहे तथा जब रोग के ठीक होने के लक्षण दिखने लगे तो ये पुनः सरौती वापस आ गये। यहॉं एक कमरे में शांत चित्त से शय्यासीन रहे तथा श्रीस्वामी जी ने इनकी सेवा सुश्रुषा की उचित व्यवस्था कर दी। जब श्रीस्वामी जी सरौती में रहते थे तो नित्य प्रातः ब्रह्ममुहूर्त में 3 बजे चुपचाप इनके कमरे में आकर इनकी नाड़ी की गति का निरीक्षण कर लौट जाते थे। करीब तीन वर्षों के बाद स्वस्थ होने पर सरौती ठाकुरवारी के स्थानीय संस्कृत विद्यालय में ये अध्यापक के रूप में कार्यरत हो गये। 
श्री स्वामी रङ्गरामानुजाचार्य और इनका योगदान
        स्वामी श्रीपराङ्कुशाचार्य जी का इनपर बहुत ही स्नेह रहता था। 101 वर्षीय श्रीस्वामी जी चाहते थे कि श्रीस्वामी रङ्गरामानुजाचार्य जी सरौती स्थान के संचालन में सहायता करे तथा इसकी जिम्मेदारी भी लें परन्तु त्यागी प्रवृति के होने के कारण इन्होंने श्रीस्वामी जी के चरणों में निवेदन कर इस तरह के कार्य से अपने को वंचित रखा। तत्पश्चात् श्रीस्वामी जी ने इन्हें शंख चक्र प्रदान करते हुए श्रीवैष्णव धर्म के प्रसार के लिये गॉंवों में भ्रमण करने को कहा। शुरू  में शारीरिक कमजोरी के कारण ये भ्रमण से हिचकिचाये परन्तु श्रीस्वामी जी ने इन्हें एकाध मील ही चलकर गॉंवों में जाने की  राय दी। बाद में श्रीरघुराज जी ने इनके लिये एक घोड़ी की व्यवस्था कर दी। यहीं से बिहार में ये श्रीवैष्णव धर्म के अग्रणी प्रचारक के रूप में एक उदीयमान सूर्य के रूप में उभरे। 82 वर्ष की अवस्था होने पर भी श्रीवैष्णव व्योम में यह सूर्य आज भी अध्यात्म मार्ग के  एक कुशल गुरू के रूप में भवरोग से ग्रस्त जनमानस को प्रकाश की राह दिखा रहे हैं।
        ई सन् 1969 में इन्होंने हुलासगंज  के पास  शुकियांवा गॉंव में ज्ञानयज्ञके साथ भागवत कथासे लोगों को लाभान्वित किया। यज्ञ में बचे हुए धन को जब ग्रामीण इनको देने लगे तो इन्होंने धन को स्वीकार करने से मना करते  हुए राय दी कि अगर संभव हो तो यहॉं एक संस्कृत विद्यालय का शुभारंभ करें। गॉंव वालों ने हुलासगंज के पास नदी के किनारे कुछ जमीन की व्यवस्था कर श्रीपराङ्कुश संस्कृत विद्यालयकी शुभारंभ कर दी। इसी के साथ यहॉं श्रीलक्ष्मीनारायण मन्दिरकी भी स्थापना हुई। पर्ण कुटीर के साथ यह आश्रम इनका आवास भी हो गया।

       
        हुलासगंज में स्थित आश्रम तथा महाविद्यालय का चित्र। पूरा परिसर वनाच्छादित दिख रहा है।

हुलासगंज में सर्व प्रथम लक्ष्मी नारायण मंदिर का निर्माण  हुआ। मंदिर के आगे जगमोहन का विस्तार ई सन् 1988 में हुआ। मेरे जाने के पूर्व 1- श्री स्वामी पराङ्कुशाचार्य संस्कृत उच्चविद्यालय  2-श्री स्वामी पराङ्कुशाचार्य संस्कृत महाविद्यालय  3- पराङ्कुशाचार्य आयुर्वेदिक दातव्य औषधालय का निर्माण हो चुका था।हुलासगंज में मैं 26 जनवरी 1983 को पहुंचा था। गाँव से पहले दरभंगा और फिर दरभंगा से डॉ. वेंकटेश शर्मा के साथ पटना पहुंचा। वही वेंकटेश शर्मा, जो मेरे बड़े भाई के मित्र और व्याकरण के दिग्गज विद्वान् हैं। उनकी शास्त्रार्श शैली अद्भुत थी। उस समय वे हुलासगंज संस्कृत महाविद्यालय के प्राचार्य पद का निर्वाह कर रहे थे। बाद में इनके साथ अनेक दुखद घटनायें जुडती चली गयी। मुझे याद है, जब मैं दरभंगा से पटना जाने वाली बस में अपने बड़े भाई महानंद झा जी के साथ जा रहा था। वेंकटेश शर्मा जी हमसे कुछ दूरी पर बस में खड़े थे। लंबे कद काठी के कारण उन्हें बस में पहचानना बिल्कुल आसान था। मैंने एक बार जोर से उनका नाम लेकर उन्हें पुकारा भी था। पटना में किसी परिचित के यहां वह पहुंचे और हम लोगों को वहीं छोड़ कर किसी काम से बाहर चले गए थे। उस घर का दृश्य आज भी मुझे याद है। बार-बार जोर से खांसने वाला खाट पर लेटा एक बूढ़ा व्यक्ति, चारों ओर मक्खियों का अंबार, कुछ छोटे- छोटे बच्चे, जो अपने बर्तन में खाना खा रहे थे। बहुत गन्दा माहौल था,जिसे मैं 34 साल बाद भी नहीं भूल पाया। घंटे 2 घंटे बाद हम लोग वहां से विदा हुए और हुलासगंज आ पहुंचे।

हुलासगंज में  हमारे दो भाई कुलानंद झा और महेश झा संस्कृत शिक्षा प्राप्त करने के लिए पहले से ही वहां रह रहे थे। हम लोगों का सामान महाविद्यालय परिसर के छात्रावास में तथा रात्रि शयन आश्रम परिसर में बने उच्च विद्यालय छात्रावास में होता था। छात्रावास मिट्टी की दीवार और घास फूस से छाए हुए छप्पर से बने थे। उस समय महेश झा के दो प्रमुख मित्र थे। घनश्याम शर्मा और मृत्युंजय शर्मा घनश्याम शर्मा मोटे हृष्ट पुष्ट थे और मृत्युंजय बिल्कुल दुबले और मंद आवाज वाले। मृत्युंजय आज भी हुलासगंज से जुड़े हैं, जबकि घनश्याम के बारे में कोई खास जानकारी नहीं मिल पा रही है। अस्तु

उस समय स्वामी जी रमाना पर गए हुए थे। संतों के बाहर जाने को रमाना कहा जाता है।एक गांव से दूसरे गांव, दूसरे गांव से तीसरी गांव अहर्निश घूमते रहना। घूमते रहना। रमण करते रहना, संतों का स्वभाव होता है। स्वामी जी से काफी दिनों तक  मेरी मुलाकात  नहीं हो पाई। एक दिन पता चला कि स्वामी जी आज हुलासगंज आने वाले हैं । मुख्य द्वार के बाहर सभी छात्र उनकी प्रतीक्षा कर रहे थे। मैं भी पंक्तिबद्ध हो खडा हो गया। स्वामी जी घोड़े से पधारे। सभी छात्रों के साथ मैंने उन्हें साष्टांग प्रणाम किया। मुझे नहीं याद है कि स्वामी जी के साथ मेरी बातचीत कब हुई। समय बीतता चला गया। हम नियत दिनचर्या का पालन करते हुए धीरे-धीरे उस व्यवस्था में घुल मिल गये। श्री शिवकुमार शर्मा संस्कृत उच्च विद्यालय में आधुनिक विषय के अध्यापक थे। स्वभाव से अत्यंत ही कठोर, अनुशासनप्रिय, उनकी अनुमति के बिना एक भी पत्ता नहीं हिलता था। छात्रों में ऐसे शिक्षकों के लिए उपनाम रखने की परंपरा रही है। हम लोग भी अपने अध्यापकों के उपनाम रख लिए थे, जो आपसी बातचीत में प्रयोग किए जाते थे। श्री शिवकुमार शर्मा की दाँतें बाहर की ओर निकली हुई थी। हम लोगों ने उनका नाम बसुला रखा। उनकी अनेक मधुर स्मृतियां आज भी याद है। श्री शिवकुमार शर्मा जी ने मेरी प्रातः कालीन ड्यूटी लगा दी। मुख्य द्वार से घुड़साल तक की सड़क और उस भूभाग पर प्रातः प्रातः झाड़ू लगाने का काम। महेश झा उच्च विद्यालय परिसर के ठीक सामने के रास्ते पर झाड़ू लगाते थे। हुलासगंज प्राकृतिक वैभव से परिपूर्ण था। यहां के एक संत, जिनका नाम कमलनयन शर्मा था वानिकी का काम देखा करते थे। यही गोपालन भी करते थे। उस समय कहा जाता था कि इन्हें हनुमान की सिद्धि प्राप्त है। संत कमलनयन शर्मा की यथाप्रसंग विस्तृत चर्चा करूंगा। अभी बस इतना ही कि उन्होंने आश्रम से संबन्धित सम्पूर्ण भूभाग को वनाच्छादित कर रखा था। यहां काजू अमरुद आम आदि के बागान थे। मैं जिस क्षेत्रफल पर झाड़ू लगाता था, वहां 5 काजू के दो अमरुद के वृक्ष थे। उसी के बीच में एक हैंडपंप लगा था, जिस पर छात्र खाना खाने के बाद अपनी थाली की सफाई, स्नान, कपडों की धुलाई आदि किया करते थे। उस समय तक हुलासगंज में शौचालय का निर्माण नहीं हुआ था। हम लोग शौच के लिए आश्रम परिसर से काफी दूर खुले में जाया करते थे। जिन बर्तनों में भोजन बनाया जाता था, उसकी सफाई बडे छात्र तथा छोटे छात्र सब्जी काटने से लेकर हर छोटा बडा काम किया करता था। हमारी दिनचर्या अत्यंत ही नियमित और अनुशासनबद्ध थी। 
    1983 से 1989 तथा उसके बाद हुलासगंज में व्यतीत किये की शेष चर्चा प्रतिपलं तव संस्मरणम् नामक दूसरे लेख में करुँगा, क्योंकि उसमें वहां के सन्तों, गुरुजनों तथा मित्रों के संस्मरण के साथ रोचक जानकारी दिया हूँ । 
श्री स्वामी रङ्गरामानुजाचार्य विरचित पुस्तकें एवं पत्रिका: 
स्वामी श्रीपराङ्कुशाचार्य द्वारा पूर्व में प्रकाशित पुस्तकों का नवीन संस्करण के प्रकाशन के अतिरिक्त श्रीस्वामी रङ्गरामानुजाचार्य जी ने गीता तथा कर्मकांड पर पुस्तकें प्रकाशित की हैं। सन् 1980? से इन्होंने हुलासगंज से वैदिक वाणीएक त्रैमासिक पत्रिका का नियमित प्रकाशन किया है। इनके द्वारा प्रणीत पुस्तकें निम्नवत् हैं।
 1. अर्थपञ्चकतत्व विमर्श             2. लघुस्तोत्र मञ्जरी 
 3. विशिष्टाद्वैत तत्वदिग्दर्शन        4. गीतापञ्चप्रसुन
5.  गीतारहस्य चन्द्रिका              6. स्तोत्र चन्द्रिका  
7. उपदेशमाला                         8. श्रीरामकथा रसायन 
9. गीताप्रवचन पीयूष.               10. वास्तुकर्म प्रकाश 
11.चौलादिविवाह चन्द्रिका         
12. श्राद्ध चन्द्रिका 
13. अर्चिरादिमार्ग

 ‘ज्ञानयज्ञ’  एवं धार्मिक कृत्य
        सन् 1968 में सरौती श्रीस्वामी जी की अध्यक्षता में श्रीस्वामी रङ्गरामानुजाचार्य जी ने पहला ज्ञानयज्ञभोजपुर शिकरहटा में संपन्न किया। तबसे त्रिदिवसीय या पंचदिवसीय ज्ञानयज्ञके द्वारा हजारों गॉंवों को आप लाभान्वित करते रहे हैं। आपके द्वारा प्रत्येक वर्ष एक या दो ज्ञानयज्ञ अवश्य ही संपन्न होते रहे हैं। पंचदिवसीय ज्ञानयज्ञ’  ‘अयोध्याएवं वृन्दावनमें भी संपन्न हुए। अयोध्या’ के ज्ञान यज्ञ में मैं लखनऊ से गया था।  अर्द्धकुंभ या पूर्णकुंभ के अवसर पर आपका हरिद्वार’ ‘उज्जैन’ ‘नासिकतथा प्रयागराजमें बाड़ा भी जाता है, जहॉं ज्ञानयज्ञएवं धार्मिक प्रवचन से भक्तों को लाभान्वित होने का मौका मिलता है। मकर कुंभ के अवसर पर प्रत्येक वर्ष प्रयागराज में करीब एक माह की अवधि का बाड़ा लगता है।
यज्ञस्थल पर श्रीमद्भागवत पारायण एवं कथा’ ‘हरिनाम का अखंड कीर्तनतथा संत विद्वानों के प्रवचन से लगभग एक माह की अवधि मै आकर्षक धार्मिक वातावरण बना रहता है।  संतानहीन लोगों को हरिवंशपुराणसुनाया जाता है जिससे अनेकों को लाभान्वित होते देखाा गया है।  पृथक यज्ञमंडप में यज्ञाग्नि प्रज्वलित कर प्रत्येक दिन श्रीविष्णुसहस्रनामसे हवन दी जाती है। अगर त्रिदिवसीययज्ञ है तो प्रतिदिन श्रीविष्णुसहस्रनामसे कम से कम एक आवृति अवश्य पूरी की जाती है। इसी तरह से तीनों दिन होम की आवृति चलती है। पचदिवसीययज्ञ में पांच दिन यज्ञमंडप में श्रीविष्णुसहस्रनामका होम चलता है।
सम्प्रति स्वामी रङ्गरामानुजाचार्य जी महाराज के संरक्षण में प्रमुख रूप से
(१) श्रीराम संस्कृत महाविद्यालय, सरौती, रामपुर चौरम अरवल (बिहार)।
(२) श्री वेंकटेश परांकुश संस्कृत महाविद्यालय, अस्सी, वाराणसी (उत्तर प्रदेश)।
(३) श्रीस्वामी परांकुशाचार्य आदर्श संस्कृत महाविद्यालय, हुलासगंज, गया (बिहार)।
(४) श्रीस्वामी परांकुशाचार्य संस्कृत उच्च विद्यालय, हुलासगंज, गया (बिहार)।
(५) श्रीस्वामी परांकुशाचार्य प्रेस, हुलासगंज, गया (बिहार)।
(६) स्वामी परांकुशाचार्य संस्कृत महाविद्यालय, मेहन्दिया, अरवल (बिहार)।

(७) श्री परांकुश संस्कृत संस्कृति संरक्षा परिषद् हुलासगंज, गया (बिहार)। शिक्षण संस्थाएँ सञ्चालित हैं।

शुक्रवार, 27 जनवरी 2017

प्रज्जालितो ज्ञानमयः प्रदीपः

                                                                         लक्ष्मीनाथ समारम्भं नाथयामुनमध्यमाम्।
                                                                         अस्मदाचार्यपर्यन्तां वन्दे गुरुपरम्पराम्।।
बिहारप्रान्तस्य दक्षिणदिग्भागे संस्कृतभाषायाः प्रचारकस्य श्रीस्वामिरङ्गरामानुजाचार्यस्य नाम को न जानाति। एते स्वकीयपरिश्रमबलेन विविधसंस्कृतशिक्षासंस्थानस्य स्थापनां कृत्वा जनमनसि संस्कृतस्य नवजागरणं कुर्वन्नस्ति।
विशिष्टाद्वैतसम्प्रदाये प्राचीनकालादारभ्य वहवः सुपण्डिताः सुविचारकाः वैष्णवाग्रगण्याः च अभवन्। तेषु एकः प्रमुखः सुपण्डिताः विंशतिशताद्यां जहानाबादजनपदान्तर्गते मिर्जापुरनाम्निग्रामे जनिं लेभे । वाल्याकालादेवायं कुशाग्रबुद्धिः, विविधशास्त्रचिन्तने मग्नः विद्वत्समाजे परमश्रद्धेयानां ज्ञानवृद्धानां माधवाचार्य एवञ्च नीलमेधाचार्यवर्याणां अन्तेवासिरुपेण विभिन्नानि शास्त्राणि अधीतवान्। एतेषां गुरवः स्वामिपरांकुशाचार्यः तरेत नाम्नी ग्रामे संस्कृतविद्यालयमहाविद्यालयोः स्थापनां कृतवान्। तदानीन्तमाः वाराणसेयाः पण्डिताः रङ्गरामानुजाचार्यवर्यस्य प्रतिभां शास्त्रवैदुष्यं च वीक्ष्य चकितचकिताः आसन्। विशिष्टाद्वैतवेदान्ते कृतभूरिपरिश्रमः रङ्गरामानुजाचार्येण अन्येषु दर्शनष्वपि रुचिं विधाय गहनं अध्ययनं कृतम्।
   शास्त्रचिन्तने परिबद्धोयं समयाभावात् तद्दिने चणकं खादित्वा अध्ययने मग्नः आसीत्। यथा कणादः प्रतिदिनं रथ्यायां पतितान् तण्डुलकणान् भक्षयति स्म तथैव अयमपि शास्त्राध्ययनम् अतिक्लेशेन कृतवान्।
    सम्प्रति 84 वर्षदेशीयः अयं चतुविंशतितमे वयसि एव संस्कृतस्य प्रचाराय प्रसाराय च गया जनपदान्तर्गते हुलासंगजनाम्नि  ग्रामे एकं सुविस्तीर्णं भव्यञ्च संस्कृतविद्यालयं स्थापितवान्। तत्र छात्राणां अध्यापकानां च कृते भोजनवासव्यवथापि विहिता । अनन्तरं संस्कृतमहाविद्यालयस्य स्थापनापि कृता।
       बिहारप्रान्तस्य वंगदेशस्य उत्तरप्रदेशस्य च छात्राः तत्र भोजनादिव्यवस्थां प्राप्य अध्ययने रताः अभवन्। असौ सर्वत्र परिभ्रमन् विद्वांसं आनीय अध्यापने योजितवान्। अस्य अथकप्रयासेन उत्तरभारतस्य विद्वांसः तत्र ज्ञानलाभाय गच्छन्ति। तदैव एकः आशुकविः मनसिज शास्त्री आसीत्। सोsपि छात्रान् अध्यापयति स्म। गया जनपदस्य स्थानमिदं अतीव प्रसिद्धमभूत् ।

     गुरुवर्येण अश्वमारुह्य ग्रामे – ग्रामे विहरन् प्रतिगृहं गत्वा संस्कृताध्यापनाय एकं पुत्रं देहीति याचते। तत बालान् संगृह्य स्वविद्यालये आनीय अध्ययने प्रेम्णा योजयति। अस्मान् एते बहु मन्यन्ते स्म। ग्रीष्मावकाशे प्रतिवर्षं वदति स्म भोः सम्पूर्णं अध्ययनं समाप्य गृहं गन्तव्यम्। मध्ये गृहगमनेन अध्ययनभंगः भवति । कथितञ्च यदि वाञ्छसि मूर्खत्वं ग्रामे वस दिनत्रयम्। भवन्तः तु मासपर्यन्तं तत्र स्थास्यति। यदि यूयं गृहं नैव गमिष्यथ चेत् अहमत्रैव सर्वं योगक्षेमं करिष्यामि। छात्रेषु संस्कृतसम्भाषणस्याभ्यासः केन विधिना वर्धिष्यति एतदर्थं संस्कृतवाग्वर्धिनी सभा आरब्धा। परिसरीयाः जनाः संस्कृते एव व्यवहरेयुः एतदर्थं विविधाः योजनाः चालिताः। संस्कृतं लोकभाषा स्यात् इति तेषाम् आभिलाषा लक्ष्यं चास्ति। प्रातः नित्यक्रियां कृत्वा छात्राः तेषां पुरतः पंक्तिबद्धरुपेण उपविश्य अमरकोषः तर्कसंग्रहः लघुसिद्धान्तकौमुदी ग्रन्थानां वाचनं एव सम्मुखे पंक्तिबद्धेन उपावेश्य कारयति। इतः अध्ययनं कृत्वा बहुजनाः विश्वविद्यालये महाविद्यालये अन्यस्मिन् सेवायां युक्ताः सन्ति।

        अधुनापि चातुर्मासकाले प्रायशः दर्शनं‚ व्याकरणं‚ ज्यातिषञ्च पाठयति। स्वस्मै ग्रीष्मकालः भवतु वा शीतकालः सर्वदा वस्त्रद्वयमेव धारयति। संस्कृतं संस्कृतेश्च प्रसाराय गुरुवर्येण पुस्तकप्रकाशनार्थं एकं मुद्रणालयस्यापि स्थापना कृता। ततः एतैः प्रायः त्रिंशदधिकाः ग्रन्थाः वैदिकवाणीति नामिका पत्रिका मुद्रापयित्वा प्रकाश्यं नीताः। प्रतिवर्षं यज्ञकर्मणि छात्राणां श्लोकान्याक्षरी प्रतियोगिता शास्त्रार्थं च कारयित्वा जनसमक्षं संस्कृतस्य प्रदर्शनं कुर्वन्ति।